Saturday, 21 January 2017

ग़ज़ल





नंदन प्यारा था दुलारा था, सहारा न हुआ
मेरा खुद का ही जलाया दिया अपना न हुआ |

रौशनी फ़ैल गयी चारो तरफ लेकिन फिर
घर अँधेरा था अँधेरा है उजाला न हुआ |

देखते रह गए बेसुध नसे में मदिरा बिना  
चाह कर भी उन्हें फ़रियाद सुनाना न हुआ |

दिल नहीं तुझको दिखा सकता जलाया तू ने
ख़ाक में मिल गया वो छार किसी का न हुआ |

निकले थे वज्म से बेआबरू होकर कभी वो
बेरुखी तेरी वजह थी कि दिवाना न हुआ |

सिर्फ मैं ही नहीं, हर एक दिवाना जो बना    
दर्द तुमने दिया उसको तो भुलाना न हुआ |

याद करते थे सभी तुझको, दुलारी थी तू
दिल का अरमान हमारा कभी पूरा न हुआ |

कालीपद ‘प्रसाद’

Friday, 13 January 2017

ग़ज़ल




हमने जब वादा किया तो मुस्कुरा देने लगे
दोस्ती में वो मुझे इक तोहफा देने लगे |

इस जमाने के दिए झटके सभी हमने सहा
जख्म जो तुमने दिया था, बेदना देने लगे |

कार बस के काफिले से ध्वस्त यातायात जब
बंद रस्ते खोल रक्षी रास्ता देने लगे |

हादसा के पीडितों ने तो गँवाया जान खुद
फायदा क्या प्रतिकरण जो दूगुना देने लगे |
 
शत्रु है दिनमान सबके, जुगनू हो या चिराग
शुर्मयी निशि को चिरागें जगमगा देने लगे |

दोस्ती अच्छी अगर है तो ज़माना आपका
मैं हुआ बेचैन यारा हौसला देने लगे  |


कालीपद ‘प्रसाद’

Friday, 6 January 2017

ग़ज़ल

काले बादल से हवा में भी नमी लगती है |
दिल के रोने से ये आँखे भी गिली लगती है ||

रजनी के आँसू से धरती ने बुझाया है प्यास|
पाँव रखता हूँ तो हलकी सी नमी लगती है||

यह सियासत भी बड़ी बेवफा है, हरदम धूर्त |
ना पिता की हुयी ना पति की,कटी लगती है ||

इस तन्हाई में तेरी याद हमेशा आई |
क्या करूँ मैं ये फिजायें भी लुटी लगती है ||

दीप की रोशनी से धरती चमकती है जब |
धरती की साडी तो हीरे ही जड़ी लगती है  ||

ढक गई है धरा पत्तों की हरी चादर से |
रूप में वह नई दुल्हन से भली लगती है ||


© कालीपद ‘प्रसाद’

Thursday, 5 January 2017

ग़ज़ल

खुशबू नहीं शबाब नहीं अब गुलाब में
कैसे कहूँ कशिश भी नहीं अब शराब में |
काली घटा गरफ्त किया सूर्य रौशनी
वो तीक्ष्णता चुभन भी नहीं आबताब में |
जीवन कभी सुसाध्य नहीं, इक रहस्य है
इंसान मोह में सदा जीते सराब में |
बचपन यहीं कहीं खो गया, ढूंढने लगा
मैंदान में नहीं, मिला उसकी किताब में |
यदि कर्म पूजा है तो अलग पूजा क्या करे
होनी विलीन आदमी के ही सवाब में |
कितने सफ़ेद कितनी है काली मुद्रा चलन
अब कौन है यहाँ जो कहेगा हिसाब में |
नेता कहे भी तो कहे क्या जनता को पत|
श्रद्धया नहीं किसी को भी झूठे जवाब में |
शबाब-लालिमा ; सराब -मृगमरीचिका
सवाब -पूण्य कर्म
कालीपद ‘प्रसाद’

Tuesday, 3 January 2017

फल -महिमा -दोहे

मधुर आम उपवन उपज, करते सब रस पान |
तिक्त करेला कटु बहुत, करता रोग निदान ||
काला जामुन है सरस, मत समझो बेकार |
दूर भगाता मर्ज सब, पेट का सब बिकार ||
पपीता बहुत काम का, कच्चा खाने योग्य |
पक्का खाओ प्रति दिवस, है यह पाचक भोज्य ||
खट्टा मीठा रस भरा, अच्छा है अंगूर |
खाओ संभल के इसे, अम्ल कारी प्रचूर ||
मीठा होता सन्तरा, ज्यों अंगूर-शराब |
रस इसका खुल पीजिये, पाचन अगर ख़राब ||
कलिन्दा सभी मानते, उपज ग्रीष्मकालीन |
खाता हरेक चाव से, मुहताज या कुलीन ||
छाल इस पर हराभरा, अन्दर पूरा लाल |
रस पीओ ठण्डा करो, जैसा हो अनुकाल ||
रोगी सभी प्रकार के, करे सेवन अनार |
आंव,कब्ज कै दस्त भी, होता दूर विकार ||
द्रव्य पचाने में निपुण, गुणवान अनन्नास |
करता बाहर अम्लता, ऐसा है विश्वास ||
कदली खाओ प्रेम से, पर भोजन के बाद |
रिक्त पेट कदली सदा, करत काय बरबाद ||


@कालीपद ‘प्रसाद’

Sunday, 25 December 2016

ग़ज़ल

प्यार की धुन बजाता जायगा
राज़ जीवन का सुनाता जायगा |

पल दो पल की जिंदगी होगी यहाँ  
दोस्ती सबसे निभाता जायगा |

बाँटता जाएगा मोहब्बत सदा
दोस्त दुश्मन को बनाता जायगा |

पेट खुद का चाहे हो खाली मगर
खाना भूखों को खिलाता जायगा |

ले धनी का साथ अपनी राह में
मुफलिसों को भी मिलाता जायगा |

छोड़ नफरत द्वेष हिंसा औ घृणा
प्रेम मोहब्बत सिखाता जायगा |

उस फरिस्ते की प्रतीक्षा है अभी
स्वर्ग धरती को बनाता जायगा |


© कालीपद ‘प्रसाद’

Thursday, 22 December 2016

ग़ज़ल /गीतिका

न किसी को कभी रुलाना है
हर दम हर को तो हँसाना है|१

कर्मों के फुलवारी से ही
यह जीवन बाग़ सजाना है |२

दुःख दर्द सबको विस्मृत कर
जश्न ख़ुशी का ही मनाना है |३

मौसम का मिजाज़ जैसा हो
प्रेम गीत तो गुनगुनाना है |४

रकीब की मरजी पता नहीं
अपना घर नया बसाना है |५

चश्मा द्वेष का उतार देखो
दुनियाँ प्यार का खज़ाना है |६

गरीब और धनी बीच फर्क
भेद भाव सभी मिटाना है |७

मज़हब अलग अलग पर इक रब
सबको ये राज बताना है |८


© कालीपद ‘प्रसाद’